5 सेकंड में जिंदगी बदलो 5 seconds rule in hindi 

5 seconds rule in hindi हम सभी को पता है की हमें सफल होने के लिए क्या करना है । हम सभी जानते है की अपने लक्ष्यों को हासिल करने के लिए हमें किन चीजों को करने की जरूरत है और हम सभी को ये भी पता है की हमें खुश, स्वास्थ, अमीर, सफल और अच्छे रिश्तों वाला बनने के लिए क्या करना चाहिए |

तो फिर हम उन चीजों को क्यो नही करते, जब हमें पता है किन चीजों के करने से हम सफल और सुखी जीवन हासिल कर सकते हैं तो हम उन चीजों क्यो नही करते ? क्योकि हमारा और ज्यादातर लोगो का मानना है की हमे अपने लक्ष्यों को पुरा करने के लिए Motivation की जरूरत है, प्रेरणा की जरूरत या Inspration की जरूरत है |

यही कारण की आज लाखो-करोडो लोग Youtube पर Motivation की Videos देखते हैं, Blogs पर Inspration और Self-improvement से सम्बन्धित आर्टिकल्स पढ़ते हैं तो फिर उन Videos और Articals को पढ़ने वाले लोग लखों-करोडों की तदात में सफल क्यो नही हो रहें हैं? क्योकि ज्यादातर लोग Actions लेने मे असफल हो जाते हैं ।

Motivational videoos या Insprational articals आपको थोडी देर के लिए अच्छा फील करा सकती हैं, कुछ Principals और तरीकों के बारे मे बता सकती हैं लेकिन जब तक आप उन Principals को अपने जीवन मे Aply नही करते, उन Principals को Actions मे नही बदलते तब-तक आपकी लाइफ मे कुछ नही बदलने वाला |

Motivational Videos या Articals केवल कुछ समय के लिए अच्छा महसूस कराते हैं, उन्हे पढ़कर या देखकर आपको खुदके प्रति अच्छा महसूस होता है । ज्यादातर लोगो को Motivation से खुदरे प्रति उम्मीद जगती है की हम भी अपनी लाइफ मे कुछ कर सकते है । एक दिन वो भी आएगा जब सफलता हमारे कदमों चूमेगी। लेकिन मॉटिवेशन Actions लेने की काबिलियत को नही बढ़ाती ।

Motivation से हम केवल तब तक किसी काम को कर पाते है जब तक की Motivation रहता है लेकिन Motivation के जाने के बाद Actions लेने की शक्ति भी चली जाती है । मॉटिवेशन की यही Problem है की ये लम्बे समय तक नही टिकता क्योकि ये एक भावना ( Emotion ) है और हम सभी जानते है की भावनाए लम्बे समय तक नही टिकती |

तो जब Motivation फेल हो जाता है तो लोग अपनी इच्छाशक्ति यानि Willpower का यूज करना शुरू कर देते हैं जोकि Motivational Videos को देखने से अच्छा है क्योकि इससे इच्छाशक्ति का उपयोग करने से इच्छाशक्ति मजबूत होती हैं । लेकिन इच्छाशक्ति के इस्तेमाल करने की सही जानकारी ना होने के कारण लोग इसका भी ढीक तरीके से उपयोग नही कर पाते |

तो फिर अपनी जिंदगी बदलने के लिए और जीवन मे सफलता पाने के लिए हम खुदको Actions लेने के लिए कैसे प्रेरित करें ? जानना चहाते हैं? तो इस आर्टिकल को अन्त तक पढ़िये |

हम उन कामों को क्यों नही करते जिनसे हमारा जीवन बदल सकता है ?

5 seconds rule in hindi 
5 seconds rule in hindi

आज सूचना के युग मे किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करना बहुत आसान है । अगर आपको पतला या मोटा होना है तो इसकी पुरी जानकारी इन्टरनेट पर फ्री मे मिल जाएगी, अगर आपको शादी करनी है तो इसके लिए भी सौकड़ो Apps और बेवसाइट्स मिल जाएगी या फिर किसी विषय पर अध्यन करना है तो इसकी भी जानकारी Internet पर बिल्कुल फ्री में उपलब्ध है |

तो इन चीजों को लोग हासिल क्यो नही कर पा रहे हैं ? क्योकि इन्हे साहिल करने के लिए बहुत हिम्मत, इच्छाशक्ति, और मानसिक शक्ति की जरूरत पडती है | क्योकि आप पतला या मोटे होने की जानकारी आसानी से इकट्टा कर सकते है लेकिन इसके लिए आपको जिम मे घंटो पसीना भी बहाना होगा, अपनी डाइट का ख्याल रखना होगा, और डेली जॉगिंग भी करनी होगा तथा जंक फूड और फास्ट फूड को छोड़ना होगा |

शादी करने के लिए अच्छी और खूबसूरत लड़की / लड़का तो आसानी से मिल जाएगी लेकिन उसे I Love you बोलने और उसे शादी के लिए मानाने के लिए बहुच हिम्मत की जरूरत होती है और कई बार तो आपको Rejections और धोखेवाजी का सामना भी करना पड सकता है जिससे लोग बहुत डरते हैं ।

इसके अलावा किसी भी लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपको Knowledge, साहस, मेहनत और यहाँ तक की दर्द भी सहना पड सकता है । जिससे लोग दूर भागते हैं । क्योकि प्राकृतिक रूप से हमारा दिमाग ऐसा ही बना हुआ है की हम दर्द और डर से दूर भागे और उन चीजों को करें जो आरामदायक तथा अनन्दायक है ।

दरअसल पाषाण या आदिमानव काल मे इंसानों के पास कुछ भी नही था । ना हमारे पास टेक्नॉलोजी थी और ना ही बुध्दि, यहाँ तक इंसानों के पास पहनने के लिए पुरे कपडे तक नही थे | उस समय अगर कोई ऐसी चीजें करता जिसमे खतरा या डर हो जैसे- शेर का अकेले शिकार करना, हाथियों के झुडं से लड़ना, तो उसका जीना असम्भव था इसलिए प्राकृति ने हमारी ऐसी Programing की जिससे हम लोग खतरे, डर, कढी मेहनत, और मानसिक तकलीफ से दूर भागें ताकि हमारा अस्तित्व बचा रहे |

लेकिन आज के युग मे ऐसा नही हो सकता अगर हमें जीना है और सफल होना है तो उन चीजों को करना ही होगा जिनमे डर है या जो Uncomfortable है । तो हम उन चीजों को कैसे करें जिन्हे करने मे हिम्मत की जरूरत है जो करने मे Uncomfortable हैं ? इसका केवल एक ही समाधान है और वो है THE 5 second rule

5 सेकंड रूल क्या है ; 5 seconds rule in hindi

मैने दो साल पहले मेल रॉबिंस ( Mel robbins ) की प्रसिध्द किताब The 5 second rule पढ़ी थी । उस समय मे बहुत ही बड़ी समस्या से जूझ रहा था दरअसल मेरे पास स्पष्ट लक्ष्य थे जिन्हे मे Life मे हासिल करना चहाता था और मुझे पता भी था की इन लक्ष्यो को हासिल करने के लिए मुझे क्या करना होगा |

लेकिन मुझे उन कामों को करना बहुत असुविधाजनक लगता था, मुझे नए-नए लोगो से संवाद करना पडता था और ऐसी चीजों को करना पढ़ता था जिन्हे करने से मै बहुत डरता था । जब मेने उस समय मेल रॉबिंस की किताब पढ़ी तो मुझे आशा की किरण नज़र आई उस किताब मे मेल रॉबिंस ने बताया की हमारा दिमाग किस तरह डर और Uncomfortable चीजों को करने से दूर भागता जिसके कारण हम असफलता का शिकार होते है ।

किताब मे जो Rule था वो बहुत आसान था | पाँच साल का बच्चा भी उसे आसानी से कर सकता था | किताब मे मेल रॉबिंस मे बताया की जब आपको किसी काम को करने की जरूरत हो और उस समय आपको डर, Uncomfortableness, या किसी भी प्रकार की भावनाए रोक रही हैं तो तुरंत 5 सेकंड के लिए उल्टी गिनती गिनीये 5- 4- 3- 2- 1- और Go कहते हुए उस काम को करना शुरू कर दिजिए जिसे करना जरूरी हैं ।

इस तरह आप अपने डर या किसी भी करह की नकारात्मक भावना को हरा पाएगे | देखिये जब आप 5 सेकंड्स के लिए उल्टी गिनती गिनते है उस समय आपका दिमाग का वो हिस्सा जो आपको डर के कारण या Uncomfortableness के कारण रोकता है वो शांत हो जाता है और आपका Prefontal cortex वाला हिस्सा एक्टिव हो जाता है जो इच्छाशक्ति को कन्ट्रोल करता है इस तरह आपकी मानसिक बाधाए खत्म हो जाती हैं और इच्छाशक्ति बढ़ जाती है और आप आसानी से Action ले पाते है और सबसे अच्छी बात है की आपको Motivation की भी जरूरत नही पडती है

ये Rule सुनने मे कुछ ज्यादा ही Simple लग रहा है । इससिए कुछ लोगो को शक होगा की ये सच मे काम करता भी है या नही । लेकिन अगर मै अपने व्यक्तिगत अनुभव से बोलू तो जितनी इस रूल ने मेरी मदद की उतनी किसी भी Principal या Rule ने नही की | जब आप Social media पर #5secondrule लिख कर सर्च करेगे तो आपको ऐसी हजारों-लाखों कहानीयां पढ़ने को मिलेगी जिसमे लोग बताएगे की किस तरह इस Simple rule ने उनका पुरा जीवन बदल दिया |

इस Rule केे अविष्कार की कहानी भी बढ़ी रोचक है जब मेल रॉबिंस ने इस रुल का अविष्कार नही किया था तब वे डिप्रेशन मे थी, उनके पति का रेस्तां का बिजनेस पुरी तरह डूब चुका था । उनकी नौकरी चली गई थी, वो पुरी तरह कर्जे मे थी और उनके अपने बच्चे से रिश्ते भी अच्छे नही चल रहे थे |

इसी हालत मे वो एक शाम नासा ( Nasa ) के स्पेस रॉकेट को लॉन्च होते हुए देख रही थी जिसको लोंन्च करने से पहले विज्ञानिक उल्टी गिनती गिन रहते थे मेल रॉबिंस ने आखिर के 5 Second पकड़ लिये और सोचा की मै भी कल से खुदको उन कामो को करने के लिए 5 Second का यूज करूगी जिसे मैं नही करना चहाती लेकिन जिन्हे करना जरूरी है । जिसके बाद मेल ने इस नियम का इस्तेमाल हर क्षेत्र मे किया जिसके बाद वो एक Motivational speaker और लेखक बन गई और उन्होने अपने सभी कर्ज चुका दिये तथा कुछ ही सालों मे वो करोडपति बन गई |

5 Second नियम का उपयोग हम किस जगह कर सकते हैं ? आप इस नियम का उपयोग जीवन के हर क्षेत्र मे कर सकते हैं । लाखों लोग है जिन्होने इस नियम का उपयोग जीवन के हर पहलू को सुधारने के लिए किया है आपको केवल थोडा Creative होकर सोचने की जरूरत है ।

ज्यादा जानकारी के लिए आप मेल रॉविंस की किताब THE 5 second rule पढ़ लें तो ज्यादा अच्छा रहेगा ।

निष्कर्ष

हमारा दिमाग प्रकृतिक रूप से इस तरह बना है की हम डर और Uncomfortableness से दूर भागते हैं । लेकिन अगर हमें आज के युग मे सफलता चाहिए तो डर और Uncomfortableness सहना ही पडेगा इसके लिए आप 5 second rule का उपयोग कर सकते हैं ।

जब भी आपको कोई काम करना हो जो आपके लिए जरूरी है लेकिन उसे करने की हिम्मत या मानसिक शक्ति नही जुटा पा रहे हैं तो 5 सेंकड तक उल्टी गिनती गिनिये और Go कहते हुए अपना काम शुरू कर दिजिए | इस तरह आप इच्छाशत्ति जुटा पाएगे और दिमाग के उस हिस्से को चकमा देने मे सफल रहेंगे जो आपको Action लेने से रोकता है ।

Leave a Comment