ANIMAL FACT IN HINDI

कांटो के बारे में रोचक तथ्य ।‌ कांटो का विज्ञान क्या कहता है ?

कांटा , डंक , सूंड जैसे चुभने वाले की डिजाइन एक समान क्यों होती है ?

प्रकृति की हर रचना में एक सिद्धांत तथा रचना मौजूद होती है । जिसे विज्ञान उजागर करने की कोशिश करता है । पेड़ पौधे और पशु पक्षियों के अंगों में भी प्रकृति के रहस्य छिपे हुए हैं । कांटा , डंक , सूंड जैसे चुभने वाले की डिजाइन एक समान क्यों होती है ? कांटा …

कांटो के बारे में रोचक तथ्य ।‌ कांटो का विज्ञान क्या कहता है ? Read More »

पशुपालन भारत में आजीविका का पारंपरिक साधन। जीडीपी में पशुधन का योगदान।

पशुपालन भारत में आजीविका का पारंपरिक साधन

पशुपालन भारत में परंपरागत रूप से आजीविका का साधन रहा है । यह कृषि की अर्थव्यवस्था से गहराई से जुड़ा हुआ है । विश्व की पशुधन की आबादी का लगभग साढे 14% भारत में है । जिनमें से 80% से ज्यादा पशु देसी नस्ल के हैं ।भारत की आबादी का बड़ा हिस्सा भोजन और जीविका …

पशुपालन भारत में आजीविका का पारंपरिक साधन। जीडीपी में पशुधन का योगदान। Read More »

दुनिया की सबसे खतरनाक जानवर। कुदरत के सबसे बड़े और सबसे ताकतवर शिकारी

जानवरों की दुनिया में जिंदा रहने के लिए जरूरी है हर हद तक जाना | यहां होते हैं हमले या एक दूसरे पर लगाते हैं घात और यहां पर चलता है हमेशा मौत का तांडव । जिंदा बचने के लिए जानवर झुंड में शिकार करते हैं । अकेले भीड़ जाते हैं तथा धोखा देते हैं …

दुनिया की सबसे खतरनाक जानवर। कुदरत के सबसे बड़े और सबसे ताकतवर शिकारी Read More »

कुत्ता कुछ ही सेकंड में अपने शरीर के बालों को कैसे सुखा लेते है

कई कुत्तों को लकड़ियां पकड़ना बोल का पीछा करना , ठंडे ठंडे पानी में डुबकी लगाना बहुत पसंद होता है । पानी के बाहर आते ही सारे लोग एक ही काम करते हैं । वह तेजी से अपना शरीर हिलाते हैं जिससे उनके बाल सूख जाते हैं । कुछ ही सेकंड में कुत्ते अपने शरीर …

कुत्ता कुछ ही सेकंड में अपने शरीर के बालों को कैसे सुखा लेते है Read More »

परिंदे सुबह-सुबह क्यों गाते हैं । परिंदे सुबह-सुबह क्यों आवाज करते हैं ।

आपने बहुत सारे ऐसे उड़ने वाले जानवरों को देखा होगा तो सुबह-सुबह आप को आवाज करते हुए पाए गए होंगे | आपने अपने आसपास स्थित किसी भी चिड़िया को देखा होगा | क्योंकि सुबह चाहे चाहट करती हुई मिल जाती है | इसके अलावा बहुत सारे ऐसे पक्षी होते हैं जो कि सुबह-सुबह चह चाहट …

परिंदे सुबह-सुबह क्यों गाते हैं । परिंदे सुबह-सुबह क्यों आवाज करते हैं । Read More »

चीते के शिकार करने की रणनीति ।

बड़े झुंड को चीते से डरने की ज्यादा जरूरत नहीं होती है । यह बात चिता भी जानता है । चिता अकेला नहीं है । वह अपने भाई के साथ मिलकर शिकार कर रहा है । उन्होंने तेजी से शिकार पर हमला किया तथा छलांग लगाकर शिकार को नीचे गिरा दिया । चीते के काटने …

चीते के शिकार करने की रणनीति । Read More »

शेरनी के परिवार की कहानी । शेरनी की छुपी हुई सोची समझी रणनीति की कहानी।

एक खास मकसद हासिल करने के लिए सोचे समझे प्रयासों को रणनीति कहते हैं । वन्य जीव में मकसद दोहरा होता है । एक रोजमर्रा की जिंदगी जीना तथा दूसरा है अपनी प्रजाति को बचाए रखना । अलग अलग जिव में यह रणनीति अलग पाई जाती है । चाहे वह घास खाने वाले हो, पानी …

शेरनी के परिवार की कहानी । शेरनी की छुपी हुई सोची समझी रणनीति की कहानी। Read More »

गैंडे जैसा दिखने वाला गुबरैला । Rhinoceros beetles .

पृथ्वी पर सबसे शक्तिशाली शिकारी Rhinoceros beetles . गैंडे जैसा दिखने वाला Rhinoceros Beetles को गुस्से वाला जानवर भी कह सकते हैं । इसके दो सिंग होते हैं जो कि काफी मजबूत होते हैं । जिसकी वजह से यह काफी भारी सामान को भी उठा सकता है । यदि यह अपने इसी दांतों की मदद …

गैंडे जैसा दिखने वाला गुबरैला । Rhinoceros beetles . Read More »

किंगफिशर को हिंदी में किलकिला। किंगफिशर के 9 रोचक तथ्य

किंगफिशर को हिंदी में किलकिला कहते हैं। लंबी चोंच वह छोटे पैर वाला यह पक्षी पानी के किनारे किसी पेड़ की टहनी पर बैठा अपने भोजन की तलाश करता है। जब भी कोई मुझे इनको नजर आता है तो। उस पर झपट्टा मारकर उसे पकड़ लेता है। इसकी एक उपजाति यूरोप में कॉमन किंगफिशर मिलती …

किंगफिशर को हिंदी में किलकिला। किंगफिशर के 9 रोचक तथ्य Read More »

उल्लू को ऋषि कश्यप द्वारा दिया गया श्राप। ऋषि कश्यप समस्त पक्षियों के जनक क्यों है।

संसार में जहां भी उल्लू रहते हैं। वहां पर सन्नाटा पसरा हुआ रहता है। और वहां का स्थान उदासीनता से भरा हुआ रहता है। जिस स्थान पर उल्लू और मनुष्य साथ साथ रहते हैं। वहां पर दुर्भाग्य और मृत्यु सहचर होते हैं। लेकिन उल्लू के साथ ऐसा क्यों होता है। पिता अपने पुत्र को श्राप …

उल्लू को ऋषि कश्यप द्वारा दिया गया श्राप। ऋषि कश्यप समस्त पक्षियों के जनक क्यों है। Read More »