कुत्ता कुछ ही सेकंड में अपने शरीर के बालों को कैसे सुखा लेते है

कुत्ता कुछ ही सेकंड में अपने शरीर के  बालों को कैसे सुखा लेते है

कई कुत्तों को लकड़ियां पकड़ना बोल का पीछा करना , ठंडे ठंडे पानी में डुबकी लगाना बहुत पसंद होता है । पानी के बाहर आते ही सारे लोग एक ही काम करते हैं । वह तेजी से अपना शरीर हिलाते हैं जिससे उनके बाल सूख जाते हैं ।

कुछ ही सेकंड में कुत्ते अपने शरीर से पानी निकालने में माहिर।

कुछ ही सेकंड में कुत्ते अपने शरीर को हिला कर के अपने बालों को सुखा लेते हैं तथा बालों का पूरा पानी बाहर निकाल देते हैं ।

क्या आपने कभी सोचा है कि कुत्ता ऐसे कैसे कर पाता है ।यदि कोई इंसान ऐसा करें तो उसकी मौत हो सकती है और कोई इंसान इतना तेजी से अपना शरीर हिला भी नहीं सकता है ।

आमतौर पर कुत्ते के शरीर का तापमान 39 डिग्री सेल्सियस होता है । जब कुत्ते के बाल देखते हैं तब इनके ठंड को रोकने की क्षमता कम हो जाती है और शरीर का तापमान कम होता है ।

इससे उन्हें हाइपोथर्मिया हो सकता है । डॉग के लिए शरीर को सुखाना जिंदगी और मौत का सवाल है हो सकता है ।

अब मुश्किल यह है कि किसी भी लैबराडोर कुत्ते का जो कोट होता है वह 4 लीटर पानी को सोख सकता है ।

यानी कि लैब्राडोर के बालों में 4 लीटर पानी रह सकता है । यदि कुत्ता अपने बॉडी की गर्मी से इस पानी को सुखाने की कोशिश करेगा तो उन्हें पूरा दिन लग जाएगा तब भी पानी नहीं सुखेगा उनके बालों का ।

डोगे ने खुद को सुखाने का एक तरीका निकाला

इसीलिए डोगे ने खुद को सुखाने का एक तरीका निकाला है । अविश्वसनीय रूप से वह 4 सेकंड में 70% तक पानी को बाहर बैंक सकते हैं ।

डॉग अचानक से अपने घर को एक दिशा में घुमाने लगता है 1 सेकंड तक रुकता है तथा दूसरी दिशा में घुमाने लगता है फर में मौजूद पानी में 20g force पैदा होता है ।

यह ताकत ग्रेविटी के मुकाबले 30 गुना ज्यादा शक्तिशाली होता है और पानी बाहर निकल जाता है । डॉग जितना तेजी से अपने आपको हिलाएगा उतना ही तेजी से पानी बाहर आएगा ।

लेकिन भीगा हुआ डोग पूरे शरीर को एक वक्त में एक ही दिशा में नहीं घुमा सकता है । ऐसा करता है तो वह गिर जाएगा । इसके लिए कुत्ते अपने सिर से शरीर को हिलाना शुरू करते हैं तथा बाद में पूरी बॉडी को हिलाते हैं ।

कुत्ते की बाहरी त्वचा पर एक स्पंजी लेयर होती है जो कि उन्हें इंजरी से बचाती है । लेकिन यह लचिली लेयर नीचे की मसल से जुड़ी हुई नहीं होती है । इसलिए यह मसल डॉग की हड्डी तथा दिमाग के विपरीत भी हिलती है ।

इसका मतलब है जब डोग 20 गुरुत्वाकर्षण से हिल रहा होता है उसके दिमाग पर 10 गुरुत्वाकर्षण से भी कम फोर्स पड़ रहा है ।

इस अनोखी तकनीक का प्रयोग सिर्फ कुत्ते ही नहीं करते हैं । इसका इस्तेमाल बाघ भी करते हैं । यह जानवर 19 लीटर पानी से आपको नहला सकते हैं ।

यदि आप इनके बहुत ज्यादा ही करीब हो तो आपको भीगने कि नहीं अपने आप ही जान बचाने की सोचनी चाहिए ।