चावल में मिली चांदी । चावल से चांदी प्राप्त कैसे की जा सकती है ।

चावल में मिली चांदी । चावल से चांदी प्राप्त कैसे की जा सकती है ।

चांदी शब्द सुनकर आपके जेहन में क्या आता है ? खूबसूरत गहने , चमचमाते बर्तन या फिर नक्काशी किए हुए सिक्के । आमतौर पर चांदी खदानों में मिलती है ।

विशेष तौर पर जिन खदानों में सल्फर की मात्रा अधिक होती है । उनके अयस्क में चांदी की मात्रा पाई जाती है या फिर जिसमें अर्जेंटाइन अधिक पाया जाता है । उसमें भी चांदी पाए जाने की संभावना होती है ।

किस भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान ने चावल में चांदी की खोज की ?

लेकिन भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास के वैज्ञानिकों ने चांदी को प्राप्त करने का एक नया स्रोत खोज निकाला है । यह नया स्रोत है चावल की एक किस्म ।

वैज्ञानिकों ने चावल की 505 किस्मों का अध्ययन किया । कि चावल की एक किसम के प्रति किलोग्राम करीब 15 मिलीग्राम चांदी होती है ।

हैरान करने वाली बात यह है । इस चावल को उगाई जाने वाली मिट्टी में चांदी की शानदार तक सीमित होने के बावजूद भी चावल में चांदी पाई जाती है ।

चावल में मिली चांदी । चावल से चांदी प्राप्त कैसे की जा सकती है ।

चावल की इस किशन की खेती कहां पर की जाती है ?

पारंपरिक रूप से इस फसल की खेती पश्चिम बंगाल तथा उड़ीसा में उगाई जाती है । चावल की उपज कम होती है । देश के कई भागों में इसकी खेती नहीं की जाती है ।

भारत में चावल की कुल कितनी किस्में है ?

उड़ीसा के अनुसंधान केंद्र ने इस किस्म को बचाकर के रखा हुआ है । वसुधा के इस अनुसंधान केंद्र में देश के चावल की 1120 लगभग विलुप्त हो चुकी प्रजातियों को बचा कर रखा गया है । जिनमें से यह भी एक है ।

किसी भी अनाज में चांदी पाए जाने का यह पहला मामला सामने आया है । कहते हैं कि भारत में चावल की 1200 में है ।

हमने अब तक सिर्फ 505 किस्मों का ही अध्ययन किया है । हो सकता है कि दूसरी किस्मों में भी चांदी के अलावा सोना भी पाया जाता हो । लेकिन अभी तक इसकी खोज नहीं हुई है ।

चावल की इस किस्म से कितने किलो से कितनी चांदी निकाली जा सकती है ?

चावल के इस किस्म की खेती से चांदी निकाली जा सकती है । प्रति हेक्टेयर खेत में 4000 किलो चावल होता है । यानी कि इस चावल की खेती प्रति हेक्टेयर 4000 किलो है।

प्रति किलो चावल में 15 मिलीग्राम के हिसाब से प्रति हेक्टेयर खेत से 60 ग्राम चांदी निकाली जा सकती है ।

चावल में और कौन कौन से धातु पाए जाते हैं ?

हालांकि चावल की कई दूसरी किस्मों में आर्सेनिक , जस्ता , लोहा पाए जाते हैं । लेकिन यह पहली बार है जब भारतीय वैज्ञानिकों को चावल के किसी प्रकार में चांदी मिली है ।

चावल से चांदी निकालने में किस रसायन का प्रयोग किया जाता है ?

वैज्ञानिकों ने नाइट्रिक एसिड , हाइड्रोजन पराक्साइड , हाइड्रोक्लोरिक एसिड जैसे रसायन का इस्तेमाल करके चावल से चांदी निकालने में सफलता पाई है ।

इस प्रक्रिया से 64 ग्राम चावल से करीब 1 मिलीग्राम चांदी निकालने में सफलता मिली है । चिर परिचित पारंपरिक तरीकों में सिल्वर क्लोराइड का इस्तेमाल चांदी निकालने में किया जा सकता है ।

चावल की भूसी से चांदी निकालने में किस रसायन का प्रयोग किया जाता है ?

चावल की भूसी से सिल्वर क्लोराइड के माध्यम से चांदी निकाली जा सकती है । चावल की इस खास किस्म में चांदी बाहरी परत में पाया जाता है जो भूसी है । पकाने से पहले भूसी हटा दी जाती है ।

इससे खाने मैं किसी तरह का जहरीलापन नहीं होता है। उसी भूसी से और आसान प्रक्रिया से चांदी निकाल सकते हो ।

क्या चांदी मनुष्य के लिए हानिकारक होती है ?

हमारे आहार में बहुत ही कम मात्रा में चांदी होती है । जिस आहार तथा पानी में सिल्वर क्लोराइड या सिल्वर नाइट्रेट होता है । उनसे हमें चांदी मिलती है ।

चांदी हमारे शरीर के लिए अनावश्यक है । प्रति लीटर पानी में 0.1 मिलीग्राम चांदी हानिकारक नहीं होती है । अधिक मात्रा में चांदी नुकसानदायक होती है ।

चांदी की अधिक मात्रा से कौन सा रोग होता है ?

चांदी की अधिक मात्रा से चर्मविवर्णता सा रोग होता है । हालांकि चावल की गरीबसल किस्म में चांदी पाई जाती है । फिर भी यह हानिकारक नहीं है ।

क्योंकि इस किसान के चावल में चांदी चावल की भूसी में पाई जाती है । जिसे पकाने से पहले हटा दिया जाता है । उम्मीद है अपने नाम के विपरीत स्वभाव वाले गरीबकिस्म कि चावल की खेती में तेजी आएगी । इस विलुप्त चावल की किस्म को नया जीवन मिलेगा ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *