अगर सफल बनना है तो खुदकी जिम्मेदारी लिजिए

Self responsibility in hindi आज हम लोगो की सबसे बड़ी समस्या है की हम इंतेजार मे है की शायद कभी कोई व्यक्ति आएगा जो हमारी पुरी जिंदगी बदल देगा, वो हमे ज्यादा खुश, स्वस्थ, अमीर, और अच्छो रिश्तो वाला बना देगा । लेकिन Reality मे केवल एक ही व्यक्ति है जो आपको ये सब चीजें दे सकता है और वो आप खुद है

आप ही हैं जिसके फैसलो और Choices से आपकी लाइफ मोड लेती है आप ही जो अपने व्यवहार से अपने भविष्य का निर्माण करते है और आप ही है जो तय करता है की किसी विशेष समय मे मुझे क्या करना है ।

लेकिन अनजाने मै हम खुदको बहुत बडी गलती का शिकार बना रहे है । खुद की जिम्मेदारी ना लेकर हम खुद से और अपनी प्यारी जिदंगी से धोखा कर रहे हैं अगर समय रहते आप इसे समझ नही पाए तो आपकी पूरी जिंदगी दुख और पझतावे में बीत जाएगी । दोस्तो आज मैं इस आर्टिकल के द्वारा आपको वो Principal बता रहा हू जिसे अगर आपने अपनी लाइफ मे Aply कर लिया तो आप अपनी लाइफ के मास्टर बन जाएगे आपको फिर किसी ऐसे व्यक्ति को नही ढूँढ़ना पडेगा जो आपकी समस्याओं के समाधान ढूँढ़े क्योकि आप खुद अपनी लाइफ के मालिक बन जाएगे |

बस कृपया कर के इस आर्टिकल से अन्त तक चिपके रहियें

स्वंय-उत्तरदायित्व क्या है (  self-responsibility in hindi )

 

Self responsibility in hindi
Self responsibility in hindi

 

एक व्यक्ति किसी सड़क के किनारे कम्भे की रोशनी के नीचे कुछ ढूँढ़ रहा था । पास से गुरजने वाले व्यक्ति ने बडी विनम्र अवाज़ मे पूछा “भाई आप क्या ढूँढ़ रहें है?” उस व्यक्ति ने जबाव दिया “मेरे घर की चाबियां खो गई है और मैं उन्हे तलाश रहा हूँ” उस व्यक्ति ने कहा चलिये ढ़ीक है मै भी आपकी मदद कर देता है । इसके बाद वो दोनों चाबियां ढूँढ़ने लगे । वो दोनो इसी तरह 1 घंटे तक चाबियां ढूँढ़ते रहे ।

दूसरा व्यक्ति बुरी तरह थकने के बाद पूछता है “मुझे लगता है की आपने चाबियां कही और गिरा दी हैं, आपकी चाबियां कहा गिरी थी?” उस व्यक्ति ने जबाव दिया मेरी चाबियां तो घर मे गिरी थी” दूसरे व्यक्ति ने हैरान होते हुए गुस्से से पूछा “फिर तुम उन्हे यहाँ क्यो ढूँढ़ रहे हो?” उस व्यक्ति ने जबाव दिया “क्योकि यहाँ मेरे घर से ज्यादा रोशनी है”.

तो कही आप भी तो उस बेवकूफ व्यक्ति की तरह गलती तो नही कर रहे, क्या आप भी अपनी समस्याओ, और दुखों के लिए दूसरे व्यक्तियों पर दोष डालते है? क्योकि वहाँ ज्यादा रोशनी है और ऐसा करना आसान भी है,अगर इसका जबाव हाँ है तो अपने जीवन की बहुत बडी भूल कर रहे हैं । स्वंय-उत्तरदायित्व ( या जिसे English मे Self-responsibility कहते हैं ) का मतलब होता है “अपने जीवन और उससे जुडी हर घटना की पूरी जिम्मेदारी लेना” |

परिस्थितियां या हालतें कितने भी खराब हों अगर आप खुदकी व्यक्तिगत क्षमताओं का इस्तेमाल कर के हर हालत को अपने पक्ष मे कर लेते है तो आप एक Self-responsable व्यक्ति है और जीवन मे जरूर सफल होने वाले हैं या सफल होंगे । तो ये कैसे पता करें कि हम Self-responsable है या नही ?

देखिये अगर आप अपनी वर्तमान या अतीत की समस्याओं या दुखों के लिए किसी व्यक्ति, वस्तु, घटना, सरकार, अर्थव्यवस्था या किसी और पर दोष डालते है तो आप Self-responsable नही है तो फिर आप खुदकी लाइफ की जिम्मेदारी नही ले रहें, जिसके कारण आप असफल होंगे या कुछ समय बाद होने वाले हैं ।

तो फिर Self-responsable कैसे बना जाए ? या अपनी लाइफ की पूरी जिम्मेदारी कैसे ली जाए चलिए हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताते है जिन्हे Follow कर के आप एक Self-responsable Person बन सकते हैं ।

*. 1~ दूसरों को दोष देना छोड़ दिजिए *

स्वंय-उत्तरदायित्व वाला व्यक्ति किसी पर दोष नही डालता क्योकि उसे पता होता की वो दूसरों पर कितना ही दोष डालता रहें, चाहे पूरे दिन या पूरी साल लोगो पर दोषारोर्पण ही करता रहे लेकिन इससे उसकी लाइफ नही सुधरेगी, इसका जीवन बेहतर नही बनेगा ।

जब कोई दूसरों पर दोष डालता है तब वो असल मे कह रहा है की मै कुछ नही कर सकता, उसी व्यक्ति के पास सारी शक्तियां हैं “मै तो केवल बेवकूफों की तरह तमाशा देखता हूँ” जोकि पूरी तरह गलत है आप पूरी तरह अपनी Life के लिए Responsable है ।

For example जब आप सुबह Office के लिए निकलते है तब आपको अक्सर सड़क पर ट्रैफिक मिलता है । जिसके कारण आप Office के लिए घंटों लेट हो जाते है ।

तो इसमे Self-responsibility किस तरह काम कर सकती है ? क्योकि ट्रैफिक लगना आपके हाथ मे नही है और इस बारे मे आप कुछ नही कर सकते है नही ! इसके लिए भी आप ही जिम्मेदार हैं । जब आपको पता है कि सड़क पर डेली ट्रैफिक लगता है तब आपको 1 या आधे घण्टे पहले घर से निकलना चाहिए या फिर किसी ऐसी रास्ते से Office जाना चाहिए जहाँ जाम न लगता हो ।

इसलिए आपको ये मानना ही पडेगा की आप ही सभी परिस्थितियों के लिए जिम्मेदार है चाहें वो अच्छी हों या बुरी, सफलता हो या असफलता याद रखिए Self-responsibility is power, blaming is weakness. दोष लगाना समय की बर्वादी है, इससे कोई फर्क नही पढ़ता की आप दूसरों मे कितने दोष और कमियां निकालते हैं, इससे आपका जीवन नही बदलने वाला । ~#WAYNE DYER

*. 2~ शिकायत करना छोड़ दें *

गैरजिम्मेदारी की सबसे बडी निशानी है शिकायत करना, ऐसे लोगो को शिकायत करने की बिमारी होती है । जब उनसे कोई पूछता है की आप सफल क्यो नही बन पाए ? तब उनके पास हजारों बहाने होते है, केवल इतना पूछते ही उनका ग्रामाफोन चालू हो जाता है ।

शिकायत करना भी असफलता का सबसे बडा कारण होता है, क्योकि इसमे आपको केवल किसी टार्गेट को तलाश करना होता और इसके बाद आपका काम खत्म हो जाता है लेकिन जिम्मेदारी लेते समय आपको हिम्मत जुडानी पडती है, आपको पता है की अगर मेने कुछ नही किया तो मुझे ही परिणाम भुगतने पडेगी जिसके बाद आप सकारात्मक बदलाव लाते हैं इस समस्या से निपटने का केवल एक ही तरीका है की जब भी आपका मन शकायत करने या दोष डालने का करें तभी कहें “इसके लिए केवल मै जिम्मेदार हूँ” इसके बाद आपकी सारी नकारात्नक भावनाए दूर हो जाएगी, आपको खुदकी शक्ति का Realization होगा ।

आपको खुदकी जिम्मेदारी लेनी ही पडेगी, आप हालतों को नही बदल सकते, आप मौसम को नही बदल सकते, आप हवा को नही बदल सकते, लेकिन आप खुदको बदल सकते हैं । ~ By #JIM ROHN *. 3~

फॉर्मूला E+R=O का उपयोग करें *

Responsibility निभाने के लिए जैक केनफील्ड ( Jack canfield ) अपनी प्रसिध्द किताब THE Success Principles मे एक फॉर्मूले के बारे मे बताते हैं जिसे अगर किसी ने भी Follow किया तो वो एक सफल और Responsable व्यक्ति बन सकता है । फॉर्मूला कुछ इस तरह है- E+R=O ( EVENT+RESPONSE= OUTCOME ) यानी- ( घटना+प्रतिक्रिया= परिणाम ) इस फॉर्मूले के अनुसार आप किसी घटना पर जो प्रतिक्रिया करते है उसी के अनुसार आपके परिणाम आते है अगर आप सकारात्मक प्रतिक्रिया करते है

तो आपको सकारात्मक परिणाम मिलते है अगर आप नकारात्मक प्रतिक्रिया करते है तो आपको नकारात्मक परिणाम मिलते हैं । चलिए इसे कुछ उदाहरणों के द्वारा समझें- Event — कोई व्यक्ति आकर आपसे “I love you” बोलता है । Response — आप उसके व्यक्तित्व और व्यवहार की बिना चाँज-पडताल करे उसे “I love you too” Outcome — बादमें आपको उस शख्स से धोखा मिलता है आप भावनात्मक और मानसिक रूप ले टूट जाते हैं ।

Event — कोई व्यक्ति आकर आपसे “I love you” बोलता है । response — आप उसके व्यहार और व्यक्तित्व की अच्छे से जाँच करते हैं और आपको पता चलता है की एक धोखेबाज़ शख्स Outcome — आप खुदको Emotionaly बर्वाद होने से बचा लेते है और आपको लोगो सही और बुरे लोगो को पहचानने की समझ हो जाती है

Event — अगले महीने आपका Exam है । Response — आप पढ़ाई नही करते और आज की पढ़ाई कल पर टालते हैं । Outcome- आप Exam मे बुरी तरह फेल हो जाते है या बहुत कम नम्बरों से पास होते हैं ।

Event — अगले महीने आपका Exam है । Response — आप पुरे ध्यान और मेहनत के साथ पढ़ाई करते हैं । Outcome — आप क्लास मे टॉप करते हैं या फिर बहुत अच्छे नम्बरों से पास होते हैं । दोनो जगह हालत बिल्कुल समान ( Same ) थे लेकिन आपके Response ने आपके परिणामों को पुरी तरह बदल दिया इससिए तो मैं कहता हू की आप अपने लाइफ की हर परिस्थिति के लिए 100 प्रतिशम जिम्मेदार हैं ।

अगर आपने वक्त रहते सही Response दिया होता तो परिणाम कुछ और होता ।

Resource

यहाँ हम आपको उन किताबों के Links दे रहे हैं जिनमे आप Self-responsibility और अन्य सफलता के नियम को सीख सकते है जो आपकी पूरी लाइफ को बदल कर रख देंगे | आप Links पर Click कर के Amazon से इन किताबों को खरीद सकते है |

THE success Principal

The compound effect

Power of self-responsibility

लक्ष्य ब्रेन ट्रेसी

Critical questions

आपकी लाइफ का कौनसा वो क्षेत्र है जहाँ 100 प्रतिशत जिम्मेदारी नही ले रहे ? क्या आप अभी भी कुछ ऐसे Actions ले रहे है जो आपको भविष्य मे नुकसान पहुचा सकते है? क्या आप अपनी बुरी किस्मत के लिए किसी व्यक्ति, वस्तु, घटना या समय को दोषी मानते ? क्या आप अपनी असफलतों के लिए दूसरें व्यक्ति या घटनाओ की शिकायत करते हैं ? Action steps

1. खुदसे वादा करिये की आप आज के बाद खुदकी लाइफ की 100 प्रतिशत जिम्मेदारी लेंगे और किसी पर भी दोष नही डालेंगे

2. अपने अतीत मे जाए और किसी एक ऐसे इंसान को तलाशें जिसने आपको सबसे ज्यादा दर्द और उन चीजों को ढूँढें जो आपने गलत की जिसके कारण आपको बाद मे बुरे परिणाम भुगतने पढ़े ।

3. उन तीन चीजों के बारे मे सोचिये जो आपके अतीत मे हुई थी लेकिन आपके गलत Actions के कारण गलत परिणाम आए | और उन तीन चीजों के बारे मे लिखिये जिन्हे कर के आप वर्तमान हालत को सुधार सकते हैं ।

4. अपने जीवन का लक्ष्य बनाईये की आप आज के बाद किसी पर दोष नही लगाएगे और परिस्थिति मे खुदसे कहेगे की इसके लिए मै जिम्मेदार हूँ । निष्कर्ष अगर आप जीवन मे सफल बनना चहाते है तो खुदकी लाइफ की 100 प्रतिशत जिम्मेदारी लेनी पडेगी । 100 प्रतिशत जिम्मेदारी लेने के लिए आपको दूसरों को दोष देना और शकायत करना छोड़ना होगा तथा E+R=O फॉर्मूले को Follow करना होगा ।

Leave a Comment