सपनो को हकीकत में कैसे बदलें subconscious mind in hindi

subconscious mind in hindi विज्ञानिकों और डॉक्टरों के लिए इंसानी शरीर हमेशा से एक रहस्य रहा है, लगातार विज्ञानिक खोजों और रिसर्च के बाद भी हम इंसानी शरीर को पूरी तरह समझ नही पाए हैं इस शरीर मे भी सबसे जटिल अंग हमारा दिमाग है, जो हमारे पूरे शरीर तथा व्यक्तित्व को कन्ट्रोल करता है । हमारे दिमाग मे 100 बिलियन ब्रेन सेल्स हैं ( brain cells ) और हर ब्रेन सेल 20 हजार दूसरी ब्रेन सेल्स से जुड़ी होताी है ।

दिमागी विशेषज्ञ ( Brain expert ) टॉनी बूज़ान के अनुसार दिमागी शक्ति के द्वारा इतने विचार उत्पन्न किये जा सकते है जितने की पूरे ब्रम्हांड मे अणु भी नही हैं । यानी आपके दिमाग मे वो शक्ति है जो आपको बडी से बडी बाधाओ से और मुश्किलों से मुक्त करा सकती है ।

कुछ साल पहले एक रिसर्च Publish हुई थी जिसमे बताया गया था की हम अपनी दिमागी शक्ति का केवल 10 प्रतिशत हिस्सा ही यूज कर पाते है जबकि हाल ही की कई रिसर्चों मे पता चला की हम दिमागी शक्ति का केवल 2 प्रतिशत हिस्सा ही यूज कर पाते हैं ।

यानी जितनी हमारी मस्तिष्क की काबिलियत है हम उसका केवल अंश भर ही इस्तेमाल कर पाते हैं ये तो वैसा ही हुआ की आपकी तिजोरी मे 1 करोड रूपय है लेकिन आप उनमे से केवल 2 लाख ही उपयोग कर पाए क्योकि आपको तिजोरी का पासवर्ड नही मालूम |

यूं तो हमारे मस्तिष्क के बहुत से Functions है लेकिन इनमे सबसे दिलस्प हमारे अवचेतन मन ( Subconscious mind ) की शक्ति है । जिसका अगर आपको इस्तेमाल करना आ गया तो आपकी जिंदगी पहले जैसी कभी नही रहेगी । आपकी समस्याए खत्म हो जाएगी, आप पहले से ज्यादा स्वस्थ हो जाएगा, आपको पहले से ज्यादा तरक्की और पैसा मिलना शुरू हो जाएगा तथा आपकी जिंदगी खुशिंयो से भर जाएगी ।

ये बातें हासिल करना नमूमकीन सा लग रहा है लेकिन अगर आप एक बार अवचेतन मन पर महारत हासिल कर लेते है तो फिर आपके लिए नमूमकीन कुछ भी नही रहेगा ।

तो क्या आप अवचेतन मन की शत्ति पर महारत हासिल करना चहाते है ? क्या आपको भी अपनी जिदंगी बदलनी है ? अगर हाँ ! तो इस आर्टिकल को पूरे ध्यान के साथ अन्त तक पढिये |

इससे पहले हम आपको अवचेतन मन की शक्ति का इस्तेमाल करने के बारे मे बताए चलिए जान लेते है कि अवचेतन मन क्या है ? ( What is subconscious mind in hindi ?)

अवचेतन मन क्या है ( Subsconscious mind kya hai )

मनोविज्ञानिकों के अनुसार हमारा दिमाग दो हिस्सो अवचेतन ( Subconscious mind ) तथा चेतन conscious mind मे बँटा होता है | आपको ध्यान रखना चाहिए की आपके दो दिमाग नही है बल्कि एक ही दिमाग है जिसको काम करने के अनुसार दो भागो मे बाँट दिया है ।

आपका अवचेतन मन अपार शक्तियों का भंडार है इसमे आपकी यादें, भावनाए, आदतें और रचनात्मकता होती है | जबकी चेतन मन तार्किक होता है, चेतन मन के द्वारा आप तार्किक कामो जैसे- गणित के सवाल हल करना, सही गलत चुनना, फैसले लेना और किसी चीज पर ध्यान केन्द्रित करना जैसे कामो को करते है |

आपका अवचेतन मन तार्किक ( Logical ) नही होता ये सही गलत मे अन्दर नही जानता ये इस मिट्टी की तरह है जो हर बीज को पौधे मे बदल देता है। जब हम किसी चीज पर पक्का विश्वास कर लेते है, और किसी विचार या बात बार-बार दोहराते रहते है तो हमारा Subconscious mind उसे सच मान लेता है और हमारे साथ वैसा ही होता है जैसा हमने सच मान लिया था |

जैसे- अगर कोई व्यक्ति बार-बार इस बात को कहे की मै हर समय थका रहता हूँ, मुझे लोग पसंद नही करते और मै कभी सफल नही हो सकता तो उस व्यक्ति का Subconscious mind इस बात को सच मान लेगा और उसके साथ ये सभी बातें सच होना शुरू हो जाएगी |

मेने एक दफा किसी न्यूज वेबसाइट पर एक आर्टिकल पढ़ा जिसमे दो विज्ञानिकों ने एक जेल के कैदी पर Experiment किया था उस कैदी को कुछ समय बाद फँसी होने वाली थी उन वैज्ञानिकों ने जेलर की मदद से उस कैदी को कहलवाया की तुम्हे अब फँसी नही होगी बल्कि तुम्हे साँप से डँस वाकर मारा जाएगा |

इसके कुछ दिनों बाद उस कैदी को हाथ-पैर कुर्सी से बाँध कर एक कमरे मे लाया गया लेकिन उसकी आँखों पर पट्टी बँधी हुई थी वो विज्ञानिक भी उसी कमरे मे मौजूद थे उन विज्ञानिकों ने उस कैदी से कहा की हम तुम्हे साँप से डँस वाकर मर रहे है इसके बाद इनमे से एक वैज्ञानिक ने दो पिन लेकर फुर्ती से उस कैदी की जाँघ पर मारी ताकि उसे लगे की उसे किसी साँप ने डँसा है ।

वो कैदी झटपटाने लगा और दो घंटो तक रोता रहा, दो घंटो के बाद उसकी मौत हो गई, मौत के बाद जब वैज्ञानिकों ने उसको शरीर की जाँच की तो सब लोग हैरान हो गए क्योकि जाँच मे पता चला की उस कैदी के पुरे शरीर मे ज़हर फैल चूका था जिसके कारण उसकी मौत हो गई थी |

तो उसके शरीर मे जहर कैसे आया ? दरअसल जहर उसके अवचेतन मन ने पैदा क्या था, उसे पूरा विश्वास हो गया था की मुझे ज़हरीले साँप ने काटा है और अब मेरी मौत निश्चित है । इस Experiment के बाद Mind-body Conection नाम की Theory famous हो गई |

तो आपके अवचेतन मन मे इतनी शक्ति है की ये विचारों के द्वारा शरीर मे ज़हर पैदा कर सकता है लेकिन अगर आपने इसका सही तरीके से इस्तेमाल किया तो ये आपके विचारों को अमृत भी बना सकता है । अवचेतन मन और चेतन मन से जुडी कुछ जरूरी बातें आपका अवचेतन मन शरीर के सभी कामों को चौबीसों घंटे करते रहता है ।

शरीर के अांतरिक कामों जैसे- पाचन, दिल का थडकना, खून का एक अंग से दूसरे अंत तक जाना और आँखों के पलको का झपकने की क्रिया को अवचेतन मन काबू करता है । आपका अवचेतन मन कभी नही सोता, जब आप सो जाते है तब केवल आपका चेतन मन सोता है, अवतेचन सोते समय मे भी Subconscious mind जागता रहता है ।

Subconscious mind तर्क नही कर सकता ये आपका सच्चा सेवक है अगर आपको इसे हुक्म देना आ गया तो आपके लिए दुनिया का कोई भी काम कर देगा । अवचेतन मन कल्पना और असलियत ( Reality ) मे अन्तर नही जानता क्योकि ये तर्क नही कर सकता आपने भी कई बार नोटिस किया होगा की जब हम Sad Movie देखते है तो हमें रोना आ जाता है और जब हम कोई डरावनी या भूतिया फिल्म रात को अकेले मे देखते है

तो हम डर जाते हैं जबकि हमें पता होता है कि ये केवल एक्टिंग है Reality नही है लेकिन फिर भी हमारी भावनाए जाग जाती है इससे ये बात साबित होती है की अवचेतन मन कल्पना और Reality मे अन्तर नही जानता । Subconscious mind को तस्वीरे, भावनाए, विश्वास ज्यादा अच्छी तरह प्रभावित करती हैं ।

अवचेतन मन की शक्ति का इस्तेमाल कैसे करें ( Subconscious mind in hindi )

 

subconscious mind in hindi
subconscious mind in hindi

 

जैसा कि मेने पहले कहा आपके अवचेतन मन मे भावनाए और यादें होती हैं । इसलिए अवचेतन मन तक पहुचने का सबसे आसान रास्ता भावनाओ और तस्वीरों का है | आप कल्पना ( Visualization ) के द्वारा मानसिक तस्वीरें बना सकते हैं जो सीधे आपके Subconscious Mind तक जाएगी ।

इसके अलावा आपको दो चीजों का और ध्यान रखना है । पहला की जो आप चहाते है उस पर अटूट विश्नास रखिये की वो आपको मिल चूका है और दूसरा कि आपको निरंतरता ( Consistency ) साथ उस विचार को दोहाराना है |

अगर मै आपको अवचेतन मन की शक्ति का इस्तेमाल करने का सूत्र बताऊ तो वो कुछ इस तरह होगा– मानसिक तस्वीर+अटूट विश्वास+ भावनाए+निरंतरता = सफलता दुनिया के सबसे बड़े Self-improvement और आत्म-सुधार गुरूओ मे से एक ब्रेन ट्रेसी बताते है की अवचेतन मन तक पहुचने का सबसे कुशल तरीका Visualizarion और Affirmation का है इललिए हम इस आर्टिकल मे Visualization के द्वारा अवचेकन मन तक पहुचने का प्रयास करेंगे

*. 1~ Visualization करने का सही तरीका *

जब आप आँखे बंद कर के किसी घटना को ऐसे देखते है जैसे की वो असलियित मे हो रही हो तो उसे Visualization कहते है । Visualization अवचेतन मन को बहुत तेजी से प्रभावित करता है ।

तंत्रिक विज्ञान ( Neurology ) के विशेषज्ञ ( expert ) NORMAN DOIDGE, अपनी प्रसिध्द किताब The brain that can change itself मे एक Experiment के बारे मे बताते हैं जिसमे 20 नौजवान लड़को को दो समूहों मे बाँट दिया था पहले समूह के लड़को से कहा गया की तुम्हे अगले 2 महीने तक डेली आधे घंटे तक Exercise करनी है जबकि दूसरे समूह के लडको से केवल एक बार आधे घंटे तक Exercise करवाई और उनसे कहा गया की तुम्हे अगले 2 महीनों तक एक जगह बैढ कर कल्पना करनी है तुम Exercise कर रहे हो ।

इसके बाद जब Experiment का नतीजा निकला तो सब हैरान रह गए क्योकि जिन लोगो ने Exercise की थी उनके शरीर की मसल्स 30 प्रतिशत ज्यादा शक्तिशाली हो गई थी जबकि जिन लडको ने केवल Exercise करने की कल्पना की थी उनकी मसल्स की शक्ति 29 प्रतिशत तक बढ़ गई थी |

इसलिए मेने कहा था की Subconscious mind कल्पना और असलियत मे अन्तर नही जानता उन लडकों के अवचेतन मन ने मान लिया था कि वो Exercise कर रहे है इसलिए उन लडको की Muscle power लगभग-लगभग उतनी ही बढ़ गई जितनी उन लडको की बढ़ी जिन्होने वस्ताव मे Exercise की थी ।

लेकिन Visualization करने से पहले आपको पता होना चाहिए की आप असल मे क्या चहाते है ? अपने दिमाग मे अपने लक्ष्य की स्पष्ट तस्वीर खीचिये | अच्छी तरह Visualization करने के लिए आपको नीचे लिखे Points को Follow करना होगा-

🔺अपनी कल्पना मे पाँचों इन्द्रियों ( Senses ) का उपयोग किजिए, सोचिए की जब आपका लक्ष्य ( Goal ) पूरा हो जाएगा तो वो छूने, सूँघने, चखने,देखने और सुनने मे कैसा लगेगा,

🔺आपका Subconscious mind भावनाओ पर बहुत तेजी से प्रक्रिया करता है इसलिए जब आप Visualization करें तो उन भावनाओं को महसूस करें जो आपको लक्ष्य पूरा होने पर महसूस होती । 🔺Visualization को एकदम साफ और Bright देखने की कोशिश करें | note- हो सकता है की शुरूआत मे आपको Visualization करने मे थोडी दिक्कत हो लेकिन जैसे-जैसे आप इसका अभ्यास करते रहेगे वैसे-वैसे इसमे माहिर होते जाएगे |

*. 2~ Affirmation बोलिए *

Affirmation उस वाक्य को कहते है जो आप सचेत ( conscious ) अवस्ता मे खुदसे कहते है । जिस बातों या विचारों को हम खुदसे और दूसरों से पूरे विश्वास के साथ बार-बार कहते है उसे हमारा Subconscious mind देर-सबेर प्रकट कर ही देता है ।

इससे कोई मतलब नही पढ़ता की आप जो कह रहे है वो सच है या छूट है क्योकि नितंरता के साथ वो आपके अवचेतन मन तक पहुच ही जाता है । जैसे- अगर आप सफल होना चहाते है तो खुदसे बार-बार कहिये की “मै सफल हूँ” इसलिए यहाँ हम आपको कुछ Points दे रहे हैं जिन्हे Follow कर के आप अच्छी तरह Affirmation बोल पाएगे |

🔺सबसे पहले किसी शांत जगह को चुने और आँखे बंद करें, आखें बंद करने से आपका ध्यान भटकेगा नही

🔺Affirmation मे कोई सकारात्मक भावना जैसे- खुशी, गर्व और प्यार जोडिये

🔺Affirmation वर्तमान काल ( Present ) मे होना चाहिए

🔺Affirmation मे “मैं” शब्द जरूर होना चाहिए अगर आप ऊपर दिये गए Points को Follow करते है तो आपके Affirmations कुछ इस तरह होगे- “मै बहुत खुशी और गर्व महसूस कर रहा हू क्योकि मै सफल हूँ” तो ये कुछ Technics और Tips है जिन्हे Follow कर के आप अवचेतन मन की शक्ति पर महारत हासिल कर सकते है और अपनी मनचाही चीज हासिल कर सकते है

अगर आप इस विषय पर अधिक अध्यन करना चहाते है तो Resource मे दिए गए Links पर Click कर के Amazon से किताबें खरीद सकते हैं । ये किताबें उन लोगो द्वारा लिखी गई है जो इस विषय मे विशेषज्ञ ( Expert ) हैं

Resource

आपके अवचेतन मन की शक्ति

अपनी सोच से अमीर बनिये

दौलत और सफलता की रहा

Critical question

आप किस उदेश्य को हासिल करना चहाते है ?

क्या आप नकारात्मक सोच वाले लोगो के साथ रहते है?

आप दूसरे लोगो से ज़्यादातर समय किस बारे मे बात करते हैं ? आपके मात-पिता आपसे आपके बारे मे क्या बात करते थे ?

Action steps

उन 3 चीजों को लिखें जो आप हासिल करना चहाते है Positive Attitude वाली किताबें पढ़े नकारात्मक और बूरी सोच वाले लोगों से दूर रहें अपनी जिदंगी के प्रति कृतज्ञता की भावना रखें अपनी सोच को सकारात्मक रखें

निष्कर्ष

सबसे पहले तय किजिए की आपको क्या चाहिए । इसके बाद विश्वास करिये की वो चीज आपके पास पहले से है और Visualization तथा Affirmation के द्वारा अपने अवचेतन मन की सकारात्मक प्रोगरामिंग करिये |

Leave a Comment