दुनिया की सबसे खतरनाक जानवर। कुदरत के सबसे बड़े और सबसे ताकतवर शिकारी

जानवरों की दुनिया में जिंदा रहने के लिए जरूरी है हर हद तक जाना | यहां होते हैं हमले या एक दूसरे पर लगाते हैं घात और यहां पर चलता है हमेशा मौत का तांडव ।

जिंदा बचने के लिए जानवर झुंड में शिकार करते हैं । अकेले भीड़ जाते हैं तथा धोखा देते हैं और इनके अलावा यहां पर जिंदा रहने के लिए सबसे जरूरी है खुद को सबसे खतरनाक बनाना ।

कुदरत के सबसे बड़े और सबसे ताकतवर शिकारी जमीन और समुद्र दोनों जगह पर एक साथ पाए जाते हैं । बहुत सारी प्रजातियां एक साथ ही involves हुई है । पृथ्वी के इस नाजुक संतुलन में अपना अनोखा योगदान देते आई है । पर जब दो दुश्मन टकराते हैं तब क्या होता है । जंगल में ऐसी मुठभेड़ जिंदगी और मौत का खेल होती है । ऐसे खौफनाक टकराव सबसे ताकतवर जंगली जानवरों के बीच हमेशा से ही होते रहते हैं ।

आज के इस एपिसोड में हम जानेंगे कि दुनिया की सबसे खतरनाक जानवर जब अपने survival के लिए आपस में टकराते हैं तब क्या होता है ।

हायना और शेर के बीच के टकराव

सबसे पहले हम हायना और शेर के बीच के टकराव को जानेंगे । यह दोनों जानवर साथ में रहते हैं और अमेरिका के मैदानों में आपस में टकराते रहते हैं ।

एक तरफ है जंगल का राजा और दूसरी तरफ है , वह जानवर जिसे बेहतरीन मुर्दा खोर तथा मौका परस्त माना जाता है । यह दोनों एक साथ रहते हैं पर यहां पर हुकूमत किसकी है ।

यह सबके लगता है क्योंकि शेर तो हमेशा ही जंगल का राजा है । हायना ऐसे ही खाने की तलाश में मुंह मारता रहता है । शायद किस्मत चमक जाए । यह ऐसा हम सोचते हैं लेकिन करीब से देखा जाए तो तो एक अलग कहानी सामने आती है ।

यह कहानी है दो शिकारियों की जो एक साथ शिकार करते हैं और शिकार के लिए आपस में भिड़ जाते हैं ताकि अपना रौब जमा सके | जीतने वाला सब लेकर चला जाता है | यहां पर लड़ाई जिंदगी और मौत की हो सकती है | क्योंकि शेर और हाईना एक दूसरे के जानी दुश्मन हैं |

अफ्रीकन शेर अफ्रीका की सबसे बड़ी बिल्ली

अफ्रीकन शेर अफ्रीका की सबसे बड़ी बिल्ली की प्रजाति है । एक वयस्क नर का वजन 220 किलो तक हो सकता है । नाक से पूछ तक की लंबाई 7 फुट तक हो सकती है तथा इससे ज्यादा भी हो सकती है ।

यानी कि 2 मीटर लंबी होती है । शेर बहुत ज्यादा ही सामाजिक प्राणी होते हैं । यह लगभग 30 शेरों के झुंड में रहते हैं । जिसमें ज्यादातर मादा और बच्चे होते हैं । झुंड मादाएं चलाती है और ज्यादातर शिकार भी मादा ही करती है ।

इसके बावजूद भी झुंड का सरदार नर शेर ही होता है । प्रमुख शेर ही सबसे पहले शिकार को खाते हैं । नर शिकार मादा के दबोचे हुए शिकार को नीचे गिराने में भी मदद करता है ।

नर शेर पर अपने झुंड के इलाके को बचाने की जिम्मेदारी होती है । यह इलाका 160 वर्ग किलोमीटर से भी ज्यादा बड़ा हो सकता है । अफ्रीकन शेर अफ्रीका के बहुत सारे हिस्सों में पाए जाते हैं ।

देखा जाए तो इनकी प्रजाति लगभग खतरे में ही है । इनकी संख्या तेजी से कम हो रही है । इतनी बड़ी केट को शिकार करने के लिए बहुत ज्यादा ऊर्जा की जरूरत होती है ।

शेर दिन में कितने घंटे तक सोता है ?

इस ऊर्जा को बचाए रखने के लिए शेर दिन में लगभग 20 घंटे तक सोता है । जागने के दौरान से ज्यादातर रात के दौरान ही शिकार करते हैं । इनके निशाने पर रहते हैं विल्डर बिस्ट, जेब्रा , बफेलो । यहां तक कि कभी-कभी खुद को खतरे में डालकर छोटे हिप्पो तथा हाथियों पर भी हमला कर देते हैं ।

शिकार करने के बाद यह पेट पर खाते हैं और सबसे बड़ा नर अपने शरीर का लगभग 15% एक बार में ही हजम कर जाता है । शेरों के पास आपस में बात करने के बहुत सारे तरीके होते हैं । गुर्रान से लेकर डराने तक इनके पास तरीके होते हैं ।

यह दुनिया की सबसे तेज ध्वनि उत्पन्न करने वाला जीव माना जाता है । यह 114 डेसीबल तक की ध्वनि पैदा कर सकते हैं और इनकी ध्वनि को 8 किलोमीटर दूर तक सुना जा सकता है ।

अभी तक हमने शेर के बारे में बहुत कुछ जाना है । अब हम ताकत पर समझे जाने वाले शेर के प्रतिद्वंदी हाइना के बारे में जानेंगे । पूरे अफ़्रीका में मिडिल ईस्ट तथा एशिया में हायना की 4 प्रजातियां पाई जाती है । सबसे छोटे हाइना का वजन 8 से 14 किलो तक होता है ।

जबकि सबसे बड़े होते हैं स्पोर्टेड हायना , जो कि वजन में 86 किलो तक हो सकते हैं । यानी कि सबसे बड़ा हाइना भी शेर से आकार में आधा होता है । हाइना के झुंड में भी मादा की ही चलती है ।

मादा हाइना नर के मुकाबले आकार में 10% तक बड़ी होती है । मादाएं बड़े पारिवारिक झुंड चलाती है । इनके एक झुंड में 80 हायना तक हो सकते हैं ।

अनोखी हंसी के लिए किस को जाना जाता है ?

मादा हाइना केइ कारणों से बहुत ही खास होती है । मादाएं नर के मुकाबले ज्यादा गुस्सैल होती है और इनके शरीर में टेस्टोस्टेरोन की मात्रा भी 3 गुना ज्यादा होती है । इन्हें इनकी अनोखी हंसी के लिए जाना जाता है ।

यह हंसी सिर्फ शिकार की तरफ इशारा नहीं करती है | माना जाता है कि इनकी हंसी में उपस्थित ट्यून तथा pich इनकी आवाज करने की तथा इशारे करने की प्रवृत्ति को भी समझाती है ।

यह बहुत ही समझदार जानवर माना जाता है । वैज्ञानिकों के हुई एक रिसर्च में सामाजिक समस्या सुलझा मैं हायना ने चिंपैंजी को भी मात दे दी ।

हायना घंटों तक कम रफ्तार में अपने शिकार का पीछा कर सकते हैं । क्योंकि इन्हें पता है शिकार जितना तेजी से दोड़ेगा उतना ही जल्दी से थकेगा ।

शिकार के थकते ही यह शिकार पर हमला बोल देते हैं और अपने मजबूत जबड़े से काम तमाम कर देते हैं ।

हायना के जबड़े जानवरों में सबसे मजबूत

हायना के जबड़े जानवरों में सबसे मजबूत माने जाते हैं । यह शेर से भी ज्यादा ताकतवर होते हैं । अपने मजबूत जबड़े की वजह से यह अपने शिकार को पूरी तरह से चबाने में सक्षम होते हैं ।

यह जानवर की हड्डियां तक खा सकते हैं । जबकि शेर जानवर की हड्डियां नहीं खा सकता है । हायना तो अपनी ताकत का इस्तेमाल करके शिकार के मरने से पहले ही उसे खाना शुरू कर देते हैं । जबकि शेर शिकार के मरने से पहले खाना शुरू नहीं करता है ।

इससे एक खासियत और सामने आती है कि हायना को सदियों से मुर्दा खोर जानवर के नाम से जाना जाता है जो कि बिल्कुल ही गलत है ।

क्योंकि हायना अपने ज्यादातर शिकार खुद ही करते हैं । इसके ज्यादातर शिकार वही होते हैं जो शेयर करता है । इसलिए ऐसा लगता है कि हायना मुर्दा खोर होते हैं ।

हालांकि शेर और हायना के झुंड की बात की जाए तो हायना का झुंड आकार में दो से 3 गुना बड़ा होता है । जिसकी वजह से इन दोनों का टकराव लगातार होता रहता है ।

हायना जबड़े से शेर की हड्डियों को भी चबा सकता है ।

हायना अपने खूंखार जबड़े से शेर की हड्डियों को भी चबा सकता है । शेर पूरी ताकत से हमला करने पर छोटे आकार के हायना को भी तरह से चबा सकता है ।

दोनों के डीएनए में हार मानना है ही नहीं । ना ही वे एक दूसरे को बर्दाश्त कर सकते हैं । यह सच्चे जानी दुश्मन है । बल्कि एक दूसरे को कभी मारने का मौका मिले तो यह उसे हाथ से जाने नहीं देते हैं ।

फिर चाहे कोई शेर जाड़ी में फस गया हो या शेर अकेला झुंड से दूर निकल कर आ गया हो । दोनों ही अपने दुश्मन का खेल खत्म करने का मौका कभी नहीं छोड़ते हैं ।

जब भी किसी शेर का झुंड या फिर हायना का झुंड पास में होने पर शिकार करता है तो हालात और भी खतरनाक हो जाते हैं । खतरा बढ़ जाता है । शेरों का झुंड हायना को अपने शिकार से दूर भगाने की कोशिश करता है ।

हाईना का बड़ा झुंड दावत उड़ाने की फिराक में रहता है । खासकर यदि नर शेर पास नहीं दिखाई दिए तो । यदि नर सामने आ जाए तो ताकत का खेल बदल जाता है ।

शतरंज की यह बाजी चलती रहती है और हाईना अपने रोंगटे खड़े कर देने वाली हंसी से शेरों का घेराव करते रहते हैं ।

शेर भी पीछे नहीं हटते हैं और खतरनाक दांत दिखा कर के लकड़बग्घा को धमकाना जारी रखते हैं । इनका आमना-सामना खतरनाक खौफनाक और डरावना होता है ‌।